शोएब आफताब ने रचा इतिहास

Must read

नीट 2020 का रिजल्ट घोषित हो चुका है और टॉपर होने का ताज ओडिशा के रहने वाले शोएब आफताब के सर बंधा है। उनकी कामयाबी कई माएनों में अलग है, सबसे बड़ी बात यह है वह ओडिशा के पहले ऐसे छात्र हैं जिन्हें यह कामयाबी मिली है।

कहते हैं कि मेहनत का कोई दूसरा विकल्प नहीं होता है, जब आप किसी मकसद को हासिल करने लिए पुरजोर कोशिश करते हैं और कामयाबी हासिल होती है तो खुशी का ठिकाना नहीं रहता। नीट 2020 का परिणाम घोषित हो चुका है और टॉपर का ताज  शोएब आफताब के सिर चढ़ा है। नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट, NEET 2020 की परीक्षा में टॉप करते ही उन्होंने इतिहास रच दिया है।

शोएब को मिले पूरे में पूरे अंक

NEET परिणाम की मेरिट लिस्ट में, शोएब आफताब ने 720 में पूरे 720 अंक हासिल कर रिकॉर्ड कायम कर दिया। शोएब ने केवल 100 प्रतिशत का रिकॉर्ड नहीं बनाया है। वह NEET परीक्षा में टॉप करने वाले ओडिशा के पहले छात्र भी हैं।

पिता को हुआ था नुकसान, हौसले पर नहीं पड़ा असर

एक छात्र के रूप में, शोएब बताते है कि वो अच्छे थे लेकिन कामयाबी की इस मंजिल तक पहुंचने में उन्हें मुश्किलों का सामना करना पड़ा। जब वह 8 वीं कक्षा में थे, उस समय उनके पिता, जो एक चाय व्यापारी थे, को जबरदस्त वित्तीय नुकसान हुआ। वित्तीय नुकसान की वजह से उनके पिता ने पेशा बदला और ऐसी सूरत में शोएब को डर सताता था कि पता नहीं वो कोटा में कोचिंग की मदद ले पाते हैं या नही।  

कोटा में ली कोचिंग

शोएब बताते हैं कि उनके पिता ने निर्माण व्यवसाय में किस्मत आजमाई और वो कोटा में कोचिंग के लिए सक्षम हो पाए। उनकी मां ने सपने को सच में बदलने के लिए मेरे और मेरी छोटी बहन के साथ ओडिशा से कोटा की ओर रुख किया और यह सुनिश्चित किया कि मैं अपनी पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित कर सकूं।  लेकिन यह शुरुआत कोई खास नहीं थी। दरअसल कक्षा 11 में मेरे अंक ठीक नहीं थे और मैं खुद को बेहतरीन नहीं मानता था।  मैं अपनी पढ़ाई में बहुत घंटे नहीं लगा पा रहा। लेकिन उन्होंने सुधार किया और वह छात्रवृत्ति प्राप्त करने में भी सक्षम थे।

नीट के स्तर का था एलेन छात्रवृत्ति कार्यक्रम

मुझे एलेन के छात्रवृत्ति कार्यक्रम – टैलेंटेक्स के बारे में पता चला, जो नीट के लेवल का था। मैंने ध्यान केंद्रित किया और अपने प्रयास में लगा रहा। शोएब बताते हैं कि परीक्षा पास करने के बाद वो और अधिक प्रयास करने लगे।स्कूल और स्व-अध्ययन के प्रबंधन के लिए कुछ काम करने की आवश्यकता होती है। शोएब स्कूल से सीधे अपनी कोचिंग क्लासेस जाता था और उसका दिन आमतौर पर सुबह 6 बजे शुरू होता था जो शाम 7 बजे खत्म होता था। इसके बाद, शॉयद आत्म-अध्ययन के लिए 2 से 3 घंटे समर्पित करते थे।

सेल्फ स्टडी की टाइमिंग को बढ़ाया

मैं स्वाध्याय के 3 घंटे से खुश नहीं था और फैसला किया कि स्वाध्याय के लिए छुट्टियों और रविवार को समर्पित करूंगा। उन दिनों मैंने 13 – 14 घंटे निर्बाध रूप से लगाए। कक्षा 12 बोर्ड के लिए मैंने केवल जनवरी के महीने में अध्ययन करना शुरू किया।  शोएब ने अपनी सीबीएसई कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षाओं में 96 प्रतिशत अंक हासिल किए।अपने भविष्य की ओर देखते हुए, शोएब ने साझा किया कि वह बहुत खुश है और अपनी सारी सफलता का श्रेय अपनी माँ को देते है जो उसके साथ खड़ी रही और बिना शर्त उसका समर्थन किया। वो कहते हैं कि एम्स दिल्ली में दाखिला उनका सपना था। 

More articles

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

%d bloggers like this: