अहमद नदीम क़ासमी

Must read

सैय्यद अहमद मुज्तबा – “वामिक जौनपुरी”

सैय्यद अहमद मुज्तबा “वामिक जौनपुरी" 23 अक्टूबर 1909 को एतिहासिक शहर जौनपुर से लगभग आठ किमी दूर कजगांव में स्थित लाल कोठी...

अहमद नदीम क़ासमी

अहमद नदीम क़ासमी का जन्म 20 नवंबर 1916 को हुआ था, और मृत्यु 10 जुलाई 2006, वह उर्दू भाषा के पाकिस्तानी कवि,...

IAS कपल टीना डाबी और अतहर खान अलग होंगे, जयपुर कोर्ट में तलाक की दरखास्त पेश की

2015 में UPSC टॉप करने वाली IAS अफसर टीना डाबी और उनके IAS पति अतहर खान ने जयपुर की फैमिली कोर्ट में...

लोकप्रिय नेता शमीम अहमद पूर्वी चंपारण में विधान सभा क्षेत्र नरकटिया 12 से 31540 वोट से जीते।

उन्होंने अपने फेसबुक पेज पर लिखा - अपने विश्वास व समर्थन को बरकरार रखते हुए हमें एक बार फिर आपकी सेवा का...

अहमद नदीम क़ासमी का जन्म 20 नवंबर 1916 को हुआ था, और मृत्यु 10 जुलाई 2006, वह उर्दू भाषा के पाकिस्तानी कवि, पत्रकार, साहित्यिक समीक्षक, नाटककार और लघुकथाकार थे। उन्होंने कविता, कल्पना, आलोचना, पत्रकारिता और कला जैसे विषयों पर 50 किताबें लिखीं। वह समकालीन उर्दू साहित्य में एक प्रमुख व्यक्ति थे। उनकी कविता मानवतावाद के लिये प्रतिष्ठित है। वे लगभग आधी शताब्दी तक साहित्यिक पत्रिका फुनून के संपादक और प्रकाशक रहे। उन्हें 1968 में प्राइड ऑफ़ परफॉर्मेंस और 1980 में सितार-ए-इम्तियाज़ जैसे पुरस्कार मिले।

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

सैय्यद अहमद मुज्तबा – “वामिक जौनपुरी”

सैय्यद अहमद मुज्तबा “वामिक जौनपुरी" 23 अक्टूबर 1909 को एतिहासिक शहर जौनपुर से लगभग आठ किमी दूर कजगांव में स्थित लाल कोठी...

अहमद नदीम क़ासमी

अहमद नदीम क़ासमी का जन्म 20 नवंबर 1916 को हुआ था, और मृत्यु 10 जुलाई 2006, वह उर्दू भाषा के पाकिस्तानी कवि,...

IAS कपल टीना डाबी और अतहर खान अलग होंगे, जयपुर कोर्ट में तलाक की दरखास्त पेश की

2015 में UPSC टॉप करने वाली IAS अफसर टीना डाबी और उनके IAS पति अतहर खान ने जयपुर की फैमिली कोर्ट में...

लोकप्रिय नेता शमीम अहमद पूर्वी चंपारण में विधान सभा क्षेत्र नरकटिया 12 से 31540 वोट से जीते।

उन्होंने अपने फेसबुक पेज पर लिखा - अपने विश्वास व समर्थन को बरकरार रखते हुए हमें एक बार फिर आपकी सेवा का...

विरादराने-वतन के नाम – अशफ़ाक़ उल्ला ख़ाँ

जुमेरात (गुरुवार), १५ दिसम्बर १९२७ की शाम फैजबद जेल की काल कोठरी से अशफ़ाक़ उल्ला ख़ाँ ने अपना यह आखिरी पैगाम हिन्दुस्तान के अवाम...
%d bloggers like this: